Sunday, 14 August 2011

भारत माँ की व्यथा

कतरा - कतरा रक्त का  
                        बहा के पाया था हमने जिसे |
आज वही है दर - बदर , 
                        पूछती शहीदों का हमसे पता ||
कल विदेशी बेड़ियों में थी जो जकड़ी हुई ,
                       आज अपने ही सपूतों के ज़ख्मों से घायल हुई |  
आतंक भ्रष्टाचार ने ,
                        उसकी छाती पर है तांडव किया |
जाति - पाति के भेद ने ,
                        गरिमा को सदा कलंकित किया |
पलायनवादी प्रवृत्ति ने ,
                         ममता को क्षत - विक्षत किया |
और धरा की निर्धन प्रजा को ,
                          मँहगाई ने दण्डित किया ||
हे ! धरा के वीर सपूतों ,
                         देशभक्ति का भाव भरो |
रक्तरंजित हुई धरा को ,
                         स्वर्ण सरसिज से विहसित करो ||